Aashufta Changezi's Photo'

आशुफ़्ता चंगेज़ी

1956 | अलीगढ़, भारत

प्रख्यात उत्तर-आधुनिक शायर, 1996 में अचानक लापता हो गए।

प्रख्यात उत्तर-आधुनिक शायर, 1996 में अचानक लापता हो गए।

2.89K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

हमें भी आज ही करना था इंतिज़ार उस का

उसे भी आज ही सब वादे भूल जाने थे

किस की तलाश है हमें किस के असर में हैं

जब से चले हैं घर से मुसलसल सफ़र में हैं

सवाल करती कई आँखें मुंतज़िर हैं यहाँ

जवाब आज भी हम सोच कर नहीं आए

तुझ से बिछड़ना कोई नया हादसा नहीं

ऐसे हज़ारों क़िस्से हमारी ख़बर में हैं

तुझ को भी क्यूँ याद रखा

सोच के अब पछताते हैं

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता

ये उठते बैठते ज़िक्र-ए-वफ़ा अच्छा नहीं लगता

ये बात याद रखेंगे तलाशने वाले

जो उस सफ़र पे गए लौट कर नहीं आए

ऊँची उड़ान के लिए पर तौलते थे हम

ऊँचाइयों पे साँस घुटेगी पता था

ख़्वाब जितने देखने हैं आज सारे देख लें

क्या भरोसा कल कहाँ पागल हवा ले जाएगी

सफ़र तो पहले भी कितने किए मगर इस बार

ये लग रहा है कि तुझ को भी भूल जाएँगे

तेरी ख़बर मिल जाती थी

शहर में जब अख़बार थे

पहले ही क्या कम तमाशे थे यहाँ

फिर नए मंज़र उठा लाया हूँ मैं

सभी को अपना समझता हूँ क्या हुआ है मुझे

बिछड़ के तुझ से अजब रोग लग गया है मुझे

सड़क पे चलते हुए आँखें बंद रखता हूँ

तिरे जमाल का ऐसा मज़ा पड़ा है मुझे

बदन भीगेंगे बरसातें रहेंगी

अभी कुछ दिन ये सौग़ातें रहेंगी

तू कभी इस शहर से हो कर गुज़र

रास्तों के जाल में उलझा हूँ मैं

कहा था तुम से कि ये रास्ता भी ठीक नहीं

कभी तो क़ाफ़िले वालों की बात रख लेते

आँख खुलते ही बस्तियाँ ताराज

कोई लज़्ज़त नहीं है ख़्वाबों में

जो हर क़दम पे मिरे साथ साथ रहता था

ज़रूर कोई कोई तो वास्ता होगा

हमें ख़बर थी ज़बाँ खोलते ही क्या होगा

कहाँ कहाँ मगर आँखों पे हाथ रख लेते

सोने से जागने का तअल्लुक़ था कोई

सड़कों पे अपने ख़्वाब लिए भागते रहे

अजीब ख़्वाब था ताबीर क्या हुई उस की

कि एक दरिया हवाओं के रुख़ पे बहता था

तलाश जिन को हमेशा बुज़ुर्ग करते रहे

जाने कौन सी दुनिया में वो ख़ज़ाने थे

घर में और बहुत कुछ था

सिर्फ़ दर-ओ-दीवार थे

'आशुफ़्ता' अब उस शख़्स से क्या ख़ाक निबाहें

जो बात समझता ही नहीं दिल की ज़बाँ की

ये और बात कि तुम भी यहाँ के शहरी हो

जो मैं ने तुम को सुनाया था मेरा क़िस्सा है

दरियाओं की नज़्र हुए

धीरे धीरे सब तैराक

तुझे भुलाने की कोशिश में फिर रहे थे कि हम

कुछ और साथ में परछाइयाँ लगा लाए

है इंतिज़ार मुझे जंग ख़त्म होने का

लहू की क़ैद से बाहर कोई बुलाता है

क्यूँ खिलौने टूटने पर आब-दीदा हो गए

अब तुम्हें हम क्या बताएँ क्या परेशानी हुई

घर की हद में सहरा है

आगे दरिया बहता है

एक मंज़र में लिपटे बदन के सिवा

सर्द रातों में कुछ और दिखता नहीं

तेज़ी से बीतते हुए लम्हों के साथ साथ

जीने का इक अज़ाब लिए भागते रहे

घर के अंदर जाने के

और कई दरवाज़े हैं

दिल देता है हिर-फिर के उसी दर पे सदाएँ

दीवार बना है अभी दीवाना नहीं है