198
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

चाँद में कैसे नज़र आए तिरी सूरत मुझे

आँधियों से आसमाँ का रंग मैला हो गया

वो दौर अब कहाँ कि तुम्हारी हो जुस्तुजू

इस दौर में तो हम को ख़ुद अपनी तलाश है

ये भी शायद ज़िंदगी की इक अदा है दोस्तो

जिस को साथी मिल गया वो और तन्हा हो गया

अपनी बुलंदियों से गिरूँ भी तो किस तरह

फैली हुई फ़ज़ाओं में बिखरा हुआ हूँ मैं

क्या फ़ैसला दिया है अदालत ने छोड़िए

मुजरिम तो अपने जुर्म का इक़बाल कर गया

दिल की मस्जिद में कभी पढ़ ले तहज्जुद की नमाज़

फिर सहर के वक़्त होंटों पर दुआ भी आएगी

हवा के फूल महकने लगे मुझे पा कर

मैं पहली बार हँसा ज़ख़्म को छुपाए हुए

एक ही फ़नकार के शहकार हैं दुनिया के लोग

कोई बरतर किस लिए है कोई कम-तर किस लिए

ज़िंदगी की ज़ुल्मतें अपने लहू में रच गईं

तब कहीं जा कर हमें आँखों की बीनाई मिली

बिखरे हुए हैं दिल में मिरी ख़्वाहिशों के रंग

अब मैं भी इक सजा हुआ बाज़ार हो गया

तुझ को सुकूँ नहीं है तो मिट्टी में डूब जा

आबाद इक जहान ज़मीं की तहों में है

सत्ह-ए-दरिया पर उभरने की तमन्ना ही नहीं

अर्श पर पहुँचे हुए हैं जब से गहराई मिली

लोग मेरी मौत के ख़्वाहाँ हैं 'अफ़ज़ल' किस लिए

चंद ग़ज़लों के सिवा कुछ भी नहीं सामान में

ज़िंदगी इतनी परेशाँ है ये सोचा भी था

उस के अतराफ़ में शोलों का समुंदर देखा

जाने ये हिद्दत चमन को रास आए या नहीं

आग जैसी कैफ़ियत है ख़ुशबुओं की लहर में

इंसान बे-हिसी से है पत्थर बना हुआ

मुँह में ज़बान भी है लहू भी रगों में है

दर्द ज़ंजीर की सूरत है दिलों में मौजूद

इस से पहले तो कभी इस के ये पैराए थे

उजली उजली ख़्वाहिशों पर नींद की चादर डाल

याद के रौज़न से कुछ ताज़ा हवा भी आएगी

बिखरते जिस्म ले कर तुंद तूफ़ानों में बैठे हैं

कोई ज़र्रे की सूरत है कोई टीले की सूरत है

रस्ते में कोई पेड़ जो मिल जाए तो बैठूँ

वो बार उठाया है कि दिखने लगे शाने

अपने माहौल से कुछ यूँ भी तो घबराए थे

संग लिपटे हुए फूलों में नज़र आए थे