noImage

एजाज़ वारसी

ग़ज़ल 11

शेर 7

आप आए हैं हाल पूछा है

हम ने ऐसे भी ख़्वाब देखे हैं

  • शेयर कीजिए

चढ़ते सूरज की मुदारात से पहले 'एजाज़'

सोच लो कितने चराग़ उस ने बुझाए होंगे

  • शेयर कीजिए

मैं उस के ऐब उस को बताता भी किस तरह

वो शख़्स आज तक मुझे तन्हा नहीं मिला

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 1

Pesh-e-Dasti

 

1975

 

Added to your favorites

Removed from your favorites