noImage

हबीब अशअर देहलवी

1919 - 1971 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल 6

शेर 2

सब्र दिल कि ये हालत नहीं देखी जाती

ठहर दर्द कि अब ज़ब्त का यारा रहा

  • शेयर कीजिए

यूँ तो अब भी है वही रंज वही महरूमी

वो जो इक तेरी तरफ़ से था इशारा रहा

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 16

अश्क-ओ-तबस्सुम

 

1959

Raz-o-Niyaz

 

1939

Raz-o-Niyaz

 

1939

Rukhsana

 

1950

शहनाज़

 

1955

Taj

 

 

फ़ुनून

शुमारा नम्बर-001,002

1964

फ़ुनून

शुमारा नम्बर-003,004

1966

फ़ुनून

शुमारा नम्बर-003

1968

फ़ुनून

जदीद ग़ज़ल नम्बर: खण्ड-001

1969

"दिल्ली" के और शायर

  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • अशोक लाल अशोक लाल
  • शकील शम्सी शकील शम्सी
  • ममनून निज़ामुद्दीन ममनून निज़ामुद्दीन
  • सुबोध लाल साक़ी सुबोध लाल साक़ी
  • नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी नूरुल ऐन क़ैसर क़ासमी
  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी चंद्रभान कैफ़ी देहल्वी
  • प्यारे लाल रौनक़ देहलवी प्यारे लाल रौनक़ देहलवी