ग़ज़ल 7

शेर 5

एक ही शय थी ब-अंदाज़-ए-दिगर माँगी थी

मैं ने बीनाई नहीं तुझ से नज़र माँगी थी

तमाम मज़हर-ए-फ़ितरत तिरे ग़ज़ल-ख़्वाँ हैं

ये चाँदनी भी तिरे जिस्म का क़सीदा है

उन से मिलने का मंज़र भी दिल-चस्प था 'असर'

इस तरफ़ से बहारें चलीं और उधर से खिज़ाएँ चलीं

तू भी तो हटा जिस्म के सूरज से अंधेरे

ये महकी हुई रात भी महताब-ब-कफ़ है

तारीकियों के पार चमकती है कोई शय

शायद मिरे जुनून-ए-सफ़र की उमंग है

पुस्तकें 11

Aaj Ki Science

 

2006

Basharat

 

1975

Gulabi Maut

 

1972

Khooni Shama

 

 

Lashareek

 

1988

मौत के बाद

 

 

Maut Ke Baad

 

2009

Miss China

 

 

Three X

 

1960

Ubharte Jauban

 

 

"दिल्ली" के और शायर

  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • दाग़ देहलवी दाग़ देहलवी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • बहादुर शाह ज़फ़र बहादुर शाह ज़फ़र
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़