Javed Vashisht's Photo'

जावेद वशिष्ट

1920 - 1994 | दिल्ली, भारत

काँटों पे चले हैं तो कहीं फूल खिले हैं

फूलों से मिले हैं तो बड़ी चोट लगी है

ये तो वक़्त वक़्त की बात है हमें उन से कोई गिला नहीं

वो हों आज हम से ख़फ़ा ख़फ़ा कभू हम से उन को भी प्यार था

ग़म से एहसास का आईना जिला पाता है

और ग़म सीखे है कर ये सलीक़ा मुझ से

दर्द की आँच बना देती है दिल को इक्सीर

दर्द से दिल है अगर दर्द नहीं दिल भी नहीं

आँख उठाओ तो हिजाबात का इक आलम है

दिल से देखो तो कोई राह में हाइल भी नहीं

आज अपने भी पराए से नज़र आते हैं

प्यार की रस्म ज़माने से उठी जाती है

मुद्दत से रही फ़र्श तिरी राहगुज़र में

तब जा के सितारों से कहीं आँख लड़ी है

कोई ख़याल कोई याद कोई तो एहसास

मिला दे आज ज़रा के हम को ख़ुद हम से