Natiq Lakhnavi's Photo'

नातिक़ लखनवी

1878 - 1950 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 25

शेर 13

कह रहा है शोर-ए-दरिया से समुंदर का सुकूत

जिस का जितना ज़र्फ़ है उतना ही वो ख़ामोश है

the river's raging is advised by the tranquil sea

the greater power you possess, the quieter you be

  • शेयर कीजिए

शम्अ' तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह

मैं ने तमाम उम्र गुज़ारी है इस तरह

  • शेयर कीजिए

मर मर के अगर शाम तो रो रो के सहर की

यूँ ज़िंदगी हम ने तिरी दूरी में बसर की

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 3

Intikhab-e-Kalam Natiq Lucknowi

 

1997

Musafir Damishqi

 

1924

Nazm-e-Urdu

 

1941

 

चित्र शायरी 2

कह रहा है शोर-ए-दरिया से समुंदर का सुकूत जिस का जितना ज़र्फ़ है उतना ही वो ख़ामोश है

ऐ शम्अ' तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह मैं ने तमाम उम्र गुज़ारी है इस तरह

 

ऑडियो 6

आँसुओं से ख़ून के अजज़ा बदलते जाएँगे

ऐ शम्मा तुझ पे रात ये भारी है जिस तरह

ख़ून-ए-दिल का जो कुछ अश्कों से पता मिलता है

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी