Navin C. Chaturvedi's Photo'

नवीन सी. चतुर्वेदी

1968 | मुंबई, भारत

38
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

भुला दिया है जो तू ने तो कुछ मलाल नहीं

कई दिनों से मुझे भी तिरा ख़याल नहीं

मिरा साया मिरे बस में नहीं है

मगर दुनिया पे दावा कर रहा हूँ

प्यास को प्यार करना था केवल

एक अक्षर बदल पाए हम

बग़ैर पूछे मिरे सर में भर दिया मज़हब

मैं रोकता भी तो कैसे कि मैं तो बच्चा था

परसों मैं बाज़ार गया था दर्पन लेने की ख़ातिर

क्या बोलूँ दूकान पे ही मैं शर्म के मारे गड़ बैठा

हम तो उस के ज़ेहन की उर्यानियों पर मर मिटे

दाद अगरचे दे रहे हैं जिस्म और पोशाक पर

किस को फ़ुर्सत है जो हर्फ़ों की हरारत समझाए

बात आसानी तक आए तो सभी तक पहुँचे

अब हवाओं के दाम खुलने हैं

ख़ुशबुओं का तो हो चुका सौदा

नए सफ़र का हर इक मोड़ भी नया था मगर

हर एक मोड़ पे कोई सदाएँ देता था

बैठे-बैठे का सफ़र सिर्फ़ है ख़्वाबों का फ़ुतूर

जिस्म दरवाज़े तक आए तो गली तक पहुँचे

कुछ भँवर यूँ उचट पड़े थे ज्यूँ

ख़ुद-कुशी पर हो कोई आमादा