Obaidullah Aleem's Photo'

उबैदुल्लाह अलीम

1939 - 1998 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के अग्रणी आधुनिक शायरों में शामिल।

पाकिस्तान के अग्रणी आधुनिक शायरों में शामिल।

11.9K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए

अब इस क़दर भी चाहो कि दम निकल जाए

काश देखो कभी टूटे हुए आईनों को

दिल शिकस्ता हो तो फिर अपना पराया क्या है

आँख से दूर सही दिल से कहाँ जाएगा

जाने वाले तू हमें याद बहुत आएगा

ख़्वाब ही ख़्वाब कब तलक देखूँ

काश तुझ को भी इक झलक देखूँ

अब तो मिल जाओ हमें तुम कि तुम्हारी ख़ातिर

इतनी दूर गए दुनिया से किनारा करते

दुआ करो कि मैं उस के लिए दुआ हो जाऊँ

वो एक शख़्स जो दिल को दुआ सा लगता है

एक चेहरे में तो मुमकिन नहीं इतने चेहरे

किस से करते जो कोई इश्क़ दोबारा करते

मैं तन्हा था मैं तन्हा हूँ

तुम आओ तो क्या आओ तो क्या

हवा के दोश पे रक्खे हुए चराग़ हैं हम

जो बुझ गए तो हवा से शिकायतें कैसी

ज़मीन जब भी हुई कर्बला हमारे लिए

तो आसमान से उतरा ख़ुदा हमारे लिए

जवानी क्या हुई इक रात की कहानी हुई

बदन पुराना हुआ रूह भी पुरानी हुई

बड़ी आरज़ू थी हम को नए ख़्वाब देखने की

सो अब अपनी ज़िंदगी में नए ख़्वाब भर रहे हैं

तुम हम-सफ़र हुए तो हुई ज़िंदगी अज़ीज़

मुझ में तो ज़िंदगी का कोई हौसला था

ज़मीं के लोग तो क्या दो दिलों की चाहत में

ख़ुदा भी हो तो उसे दरमियान लाओ मत

हाए वो लोग गए चाँद से मिलने और फिर

अपने ही टूटे हुए ख़्वाब उठा कर ले आए

हज़ार तरह के सदमे उठाने वाले लोग

जाने क्या हुआ इक आन में बिखर से गए

जिस को मिलना नहीं फिर उस से मोहब्बत कैसी

सोचता जाऊँ मगर दिल में बसाए जाऊँ

अगर हों कच्चे घरोंदों में आदमी आबाद

तो एक अब्र भी सैलाब के बराबर है

इंसान हो किसी भी सदी का कहीं का हो

ये जब उठा ज़मीर की आवाज़ से उठा

जो दिल को है ख़बर कहीं मिलती नहीं ख़बर

हर सुब्ह इक अज़ाब है अख़बार देखना

रौशनी आधी इधर आधी उधर

इक दिया रक्खा है दीवारों के बीच

जो रही है सदा ग़ौर से सुनो उस को

कि इस सदा में ख़ुदा बोलता सा लगता है

मैं उस को भूल गया हूँ वो मुझ को भूल गया

तो फिर ये दिल पे क्यूँ दस्तक सी ना-गहानी हुई

फिर इस तरह कभी सोया इस तरह जागा

कि रूह नींद में थी और जागता था मैं

ये कैसी बिछड़ने की सज़ा है

आईने में चेहरा रख गया है

खा गया इंसाँ को आशोब-ए-मआश

गए हैं शहर बाज़ारों के बीच

कोई और तो नहीं है पस-ए-ख़ंजर-आज़माई

हमीं क़त्ल हो रहे हैं हमीं क़त्ल कर रहे हैं

सुख़न में सहल नहीं जाँ निकाल कर रखना

ये ज़िंदगी है हमारी सँभाल कर रखना

पलट सकूँ ही आगे ही बढ़ सकूँ जिस पर

मुझे ये कौन से रस्ते लगा गया इक शख़्स

आओ तुम ही करो मसीहाई

अब बहलती नहीं है तन्हाई

मुझ से मिरा कोई मिलने वाला

बिछड़ा तो नहीं मगर मिला दे

शिकस्ता-हाल सा बे-आसरा सा लगता है

ये शहर दिल से ज़ियादा दुखा सा लगता है

बाहर का धन आता जाता असल ख़ज़ाना घर में है

हर धूप में जो मुझे साया दे वो सच्चा साया घर में है

तुम अपने रंग नहाओ मैं अपनी मौज उड़ूँ

वो बात भूल भी जाओ जो आनी-जानी हुई

मैं एक से किसी मौसम में रह नहीं सकता

कभी विसाल कभी हिज्र से रिहाई दे

दोस्तो जश्न मनाओ कि बहार आई है

फूल गिरते हैं हर इक शाख़ से आँसू की तरह

हज़ार राह चले फिर वो रहगुज़र आई

कि इक सफ़र में रहे और हर सफ़र से गए

बोले नहीं वो हर्फ़ जो ईमान में थे

लिक्खी नहीं वो बात जो अपनी नहीं थी बात

शायद कि ख़ुदा में और मुझ में

इक जस्त का और फ़ासला है

मेरे ख़्वाब मिरी आँखों को रंग दे

मेरी रौशनी तू मुझे रास्ता दिखा

शायद इस राह पे कुछ और भी राही आएँ

धूप में चलता रहूँ साए बिछाए जाऊँ

दरूद पढ़ते हुए उस की दीद को निकलें

तो सुब्ह फूल बिछाए सबा हमारे लिए

अहल-ए-दिल के दरमियाँ थे 'मीर' तुम

अब सुख़न है शोबदा-कारों के बीच

कल मातम बे-क़ीमत होगा आज उन की तौक़ीर करो

देखो ख़ून-ए-जिगर से क्या क्या लिखते हैं अफ़्साने लोग

ख़ुर्शीद मिसाल शख़्स कल शाम

मिट्टी के सुपुर्द कर दिया है

तू बू-ए-गुल है और परेशाँ हुआ हूँ मैं

दोनों में एक रिश्ता-ए-आवारगी तो है

सुब्ह-ए-चमन में एक यही आफ़्ताब था

इस आदमी की लाश को एज़ाज़ से उठा

जब मिला हुस्न भी हरजाई तो उस बज़्म से हम

इश्क़-ए-आवारा को बेताब उठा कर ले आए