Pandit Jawahar Nath Saqi's Photo'

पंडित जवाहर नाथ साक़ी

370
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

फ़लक पे चाँद सितारे निकलने हैं हर शब

सितम यही है निकलता नहीं हमारा चाँद

नहीं खुलता सबब तबस्सुम का

आज क्या कोई बोसा देंगे आप

जान-ओ-दिल था नज़्र तेरी कर चुका

तेरे आशिक़ की यही औक़ात है

जज़्बा-ए-इश्क़ चाहिए सूफ़ी

जो है अफ़्सुर्दा अहल-ए-हाल नहीं

वो माह जल्वा दिखा कर हमें हुआ रू-पोश

ये आरज़ू है कि निकले कहीं दोबारा चाँद

महव-ए-लिक़ा जो हैं मलकूती-ख़िसाल हैं

बेदार हो के भी नज़र आते हैं ख़्वाब में

निगह-ए-नाज़ से इस चुस्त क़बा ने देखा

शौक़ बेताब गुल-ए-चाक-ए-गरेबाँ समझा

हम को भरम ने बहर-ए-तवहहुम बना दिया

दरिया समझ के कूद पड़े हम सराब में

क़ालिब को अपने छोड़ के मक़्लूब हो गए

क्या और कोई क़ल्ब है इस इंक़लाब में

बुराई भलाई की सूरत हुई

मोहब्बत में सब कुछ रवा हो गया

ये रिसाला इश्क़ का है अदक़ तिरे ग़ौर करने का है सबक़

कभी देख इस को वरक़ वरक़ मिरा सीना ग़म की किताब है

दिल भी अब पहलू-तही करने लगा

हो गया तुम सा तुम्हारी याद में

सिक्का अपना नहीं जमता है तुम्हारे दिल पर

नक़्श अग़्यार के किस तौर से जम जाते हैं

छू ले सबा जो के मिरे गुल-बदन के पाँव

क़ाएम हों चमन में नसीम-ए-चमन के पाँव

जम गए राह में हम नक़्श-ए-क़दम की सूरत

नक़्श-ए-पा राह दिखाते हैं कि वो आते हैं

ये ज़मज़मा तुयूर-ए-ख़ुश-आहंग का नहीं

है नग़्मा-संज बुलबुल-ए-रंगीं-नवा-ए-क़ल्ब

ये रूपोशी नहीं है सूरत-ए-मर्दुम-शनासी है

हर इक ना-अहल तेरा तालिब-ए-दीदार बन जाता

अपने जुनूँ-कदे से निकलता ही अब नहीं

साक़ी जो मय-फ़रोश सर-ए-रहगुज़ार था

नैरंग-ए-इश्क़ आज तो हो जाए कुछ मदद

पुर-फ़न को हम करें मुतहय्यर किसी तरह

सालिक है गरचे सैर-ए-मक़ामात-ए-दिल-फ़रेब

जो रुक गए यहाँ वो मक़ाम-ए-ख़तर में हैं

हुआ क़ुर्ब-ए-तअ'ल्लुक़ का इख़तिसास यहाँ

ये रू-शनास ज़ि-राह-ए-बईदा आया था

मेरी क़िस्मत की कजी का अक्स है

ये जो बरहम गेसू-ए-पुर-ख़म रहा

वुसअ'त-ए-मशरब-ए-रिंदाँ का नहीं है महरम

ज़ाहिद-ए-सादा हमें बे-सर-ओ-सामाँ समझा

उश्शाक़ जो तसव्वुर-ए-बर्ज़ख़ के हो गए

आती है दम-ब-दम ये उन्हीं को सदा-ए-क़ल्ब

नफ़्स-ए-मतलब ही मिरा फ़ौत हुआ जाता है

जान-ए-जानाँ ये मुनासिब नहीं घबरा देना

किया है चश्म-ए-मुरव्वत ने आज माइल-ए-मेहर

मैं उन की बज़्म से कल आबदीदा आया था