Zehra Nigaah's Photo'

पाकिस्तान की अग्रणी शायरात में विख्यात।

पाकिस्तान की अग्रणी शायरात में विख्यात।

5.1K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

इस उम्मीद पे रोज़ चराग़ जलाते हैं

आने वाले बरसों ब'अद भी आते हैं

अब इस घर की आबादी मेहमानों पर है

कोई जाए तो वक़्त गुज़र जाता है

नहीं नहीं हमें अब तेरी जुस्तुजू भी नहीं

तुझे भी भूल गए हम तिरी ख़ुशी के लिए

छोटी सी बात पे ख़ुश होना मुझे आता था

पर बड़ी बात पे चुप रहना तुम्ही से सीखा

एक के घर की ख़िदमत की और एक के दिल से मोहब्बत की

दोनों फ़र्ज़ निभा कर उस ने सारी उम्र इबादत की

औरत के ख़ुदा दो हैं हक़ीक़ी मजाज़ी

पर उस के लिए कोई भी अच्छा नहीं होता

देखते देखते इक घर के रहने वाले

अपने अपने ख़ानों में बट जाते हैं

इस शहर को रास आई हम जैसों की गुम-नामी

हम नाम बताते तो ये शहर भी जल जाता

कहाँ के इश्क़-ओ-मोहब्बत किधर के हिज्र विसाल

अभी तो लोग तरसते हैं ज़िंदगी के लिए

वो जाने क्या समझा ज़िक्र मौसमों का था

मैं ने जाने क्या सोचा बात रंग-ओ-बू की थी

हम जो पहुँचे तो रहगुज़र ही थी

तुम जो आए तो मंज़िलें लाए

जिन बातों को सुनना तक बार-ए-ख़ातिर था

आज उन्हीं बातों से दिल बहलाए हुए हूँ

तुम से हासिल हुआ इक गहरे समुंदर का सुकूत

और हर मौज से लड़ना भी तुम्ही से सीखा

भूलना ख़ुद को तो आसाँ है भुला बैठा हूँ

वो सितमगर जो भूले से भुलाया जाए

जो दिल ने कही लब पे कहाँ आई है देखो

अब महफ़िल याराँ में भी तन्हाई है देखो

कोई हंगामा सर-ए-बज़्म उठाया जाए

कुछ किया जाए चराग़ों को बुझाया जाए

बरसों हुए तुम कहीं नहीं हो

आज ऐसा लगा यहीं कहीं हो

दिल बुझने लगा आतिश-ए-रुख़्सार के होते

तन्हा नज़र आते हैं ग़म-ए-यार के होते

ज़मीं पर गिर रहे थे चाँद तारे जल्दी जल्दी

अंधेरा घर की दीवारों से ऊँचा हो रहा था

ये उदासी ये फैलते साए

हम तुझे याद कर के पछताए

देखो तो लगता है जैसे देखा था

सोचो तो फिर नाम नहीं याद आते हैं

सुल्ह जिस से रही मेरी ता-ज़िंदगी

उस का सारे ज़माने से झगड़ा सा था

मय-ए-हयात में शामिल है तल्ख़ी-ए-दौराँ

जभी तो पी के तरसते हैं बे-ख़ुदी के लिए

जो सुन सको तो ये सब दास्ताँ तुम्हारी है

हज़ार बार जताया मगर नहीं माने

बस्ती में कुछ लोग निराले अब भी हैं

देखो ख़ाली दामन वाले अब भी हैं

ग़म अपने ही अश्कों का ख़रीदा हुआ है

दिल अपनी ही हालत का तमाशाई है देखो

हम से बढ़ी मसाफ़त-ए-दश्त-ए-वफ़ा कि हम

ख़ुद ही भटक गए जो कभी रास्ता मिला

अपना हर अंदाज़ आँखों को तर-ओ-ताज़ा लगा

कितने दिन के ब'अद मुझ को आईना अच्छा लगा

दीवानों को अब वुसअत-ए-सहरा नहीं दरकार

वहशत के लिए साया-ए-दीवार बहुत है

अब भी कुछ लोग सुनाते हैं सुनाए हुए शेर

बातें अब भी तिरी ज़ेहनों में बसी लगती हैं

देखो वो भी हैं जो सब कह सकते थे

देखो उन के मुँह पर ताले अब भी हैं

शाम ढले आहट की किरनें फूटी थीं

सूरज डूब के मेरे घर में निकला था

वहशत में भी मिन्नत-कश-ए-सहरा नहीं होते

कुछ लोग बिखर कर भी तमाशा नहीं होते

लो डूबतों ने देख लिया नाख़ुदा को आज

तक़रीब कुछ तो बहर-ए-मुलाक़ात हो गई

देर तक रौशनी रही कल रात

मैं ने ओढ़ी थी चाँदनी कल रात

उठो कि जश्न-ए-ख़िज़ाँ हम मनाएँ जी भर के

बहार आए गुलिस्ताँ में कब ख़ुदा जाने

शब-भर का तिरा जागना अच्छा नहीं 'ज़ेहरा'

फिर दिन का कोई काम भी पूरा नहीं होता

मैं तो अपने आप को उस दिन बहुत अच्छी लगी

वो जो थक कर देर से आया उसे कैसा लगा

तारों को गर्दिशें मिलीं ज़र्रों को ताबिशें

रह-नवर्द राह-ए-जुनूँ तुझ को क्या मिला

एक तेरा ग़म जिस को राह-ए-मो'तबर जानें

इस सफ़र में हम किस को अपना हम-सफ़र जानें

वो साथ देता तो वो दाद देता तो

ये लिखने-लिखाने का जो भी है ख़लल जाता

रात अजब आसेब-ज़दा सा मौसम था

अपना होना और होना मुबहम था

बहुत दिन ब'अद 'ज़ेहरा' तू ने कुछ ग़ज़लें तो लिख्खीं

लिखने का किसी से क्या कोई वादा किया था

रुक जा हुजूम-ए-गुल कि अभी हौसला नहीं

दिल से ख़याल-ए-तंगी-ए-दामाँ गया नहीं

जीना है तो जी लेंगे बहर-तौर दिवाने

किस बात का ग़म है रसन-ओ-दार के होते

साअतें जो तिरी क़ुर्बत में गिराँ गुज़री थीं

दूर से देखूँ तो अब वो भी भली लगती हैं

रौशनियाँ अतराफ़ में 'ज़ेहरा' रौशन थीं

आईने में अक्स ही तेरा मद्धम था

गर्दिश-ए-मीना-ओ-जाम देखिए कब तक रहे

हम पे तक़ाज़ा-ए-हराम देखिए कब तक रहे