Mahtab Haider Naqvi's Photo'

महताब हैदर नक़वी

1955 | अलीगढ़, भारत

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
Ek toofan ka saman bani hai kai cheez_Ghazal by Mahtab haidar Naqvi

महताब हैदर नक़वी

Mahtab Haidar Naqvi reciting his Ghazal/Nazm at Mushaira (Shaam-e-Sher) by Rekhta.org-2014

महताब हैदर नक़वी

Mahtab ke liye hain na maani ke liye hain_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi

महताब हैदर नक़वी

Phir kisi khwab ki palkon pe sawari aai_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi

महताब हैदर नक़वी

Usi dard aashna dil ki taraf daari mein rehte hain by Mahtab Haidar Naqvi

महताब हैदर नक़वी

Yunhi sar chadh ke har ek mauj e bala bolegi_Couplet by Mahtab haidar Naqvi

महताब हैदर नक़वी

उसी दर्द-आश्ना दिल की तरफ़-दारी में रहते हैं

महताब हैदर नक़वी

एक तूफ़ान का सामान बनी है कोई चीज़

महताब हैदर नक़वी

फिर किसी ख़्वाब की पलकों पे सवारी आई

महताब हैदर नक़वी

मतलब के लिए हैं न मआनी के लिए हैं

महताब हैदर नक़वी

यूँ ही सर चढ़ के हर इक मौज-ए-बला बोलेगी

महताब हैदर नक़वी

शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

  • Ek toofan ka saman bani hai kai cheez_Ghazal by Mahtab haidar Naqvi

    Ek toofan ka saman bani hai kai cheez_Ghazal by Mahtab haidar Naqvi महताब हैदर नक़वी

  • Mahtab Haidar Naqvi reciting his Ghazal/Nazm at Mushaira (Shaam-e-Sher) by Rekhta.org-2014

    Mahtab Haidar Naqvi reciting his Ghazal/Nazm at Mushaira (Shaam-e-Sher) by Rekhta.org-2014 महताब हैदर नक़वी

  • Mahtab ke liye hain na maani ke liye hain_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi

    Mahtab ke liye hain na maani ke liye hain_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi महताब हैदर नक़वी

  • Phir kisi khwab ki palkon pe sawari aai_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi

    Phir kisi khwab ki palkon pe sawari aai_Ghazal by Mahtab Haidar Naqvi महताब हैदर नक़वी

  • Usi dard aashna dil ki taraf daari mein rehte hain by Mahtab Haidar Naqvi

    Usi dard aashna dil ki taraf daari mein rehte hain by Mahtab Haidar Naqvi महताब हैदर नक़वी

  • Yunhi sar chadh ke har ek mauj e bala bolegi_Couplet by Mahtab haidar Naqvi

    Yunhi sar chadh ke har ek mauj e bala bolegi_Couplet by Mahtab haidar Naqvi महताब हैदर नक़वी

  • उसी दर्द-आश्ना दिल की तरफ़-दारी में रहते हैं

    उसी दर्द-आश्ना दिल की तरफ़-दारी में रहते हैं महताब हैदर नक़वी

  • एक तूफ़ान का सामान बनी है कोई चीज़

    एक तूफ़ान का सामान बनी है कोई चीज़ महताब हैदर नक़वी

  • फिर किसी ख़्वाब की पलकों पे सवारी आई

    फिर किसी ख़्वाब की पलकों पे सवारी आई महताब हैदर नक़वी

  • मतलब के लिए हैं न मआनी के लिए हैं

    मतलब के लिए हैं न मआनी के लिए हैं महताब हैदर नक़वी

  • यूँ ही सर चढ़ के हर इक मौज-ए-बला बोलेगी

    यूँ ही सर चढ़ के हर इक मौज-ए-बला बोलेगी महताब हैदर नक़वी