हास्य

है अब तो हसीनाओं का हल्क़ा मिरे आगे

नज़र बर्नी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI