Shaz Tamkanat's Photo'

शाज़ तमकनत

1933 - 1985 | हैदराबाद, भारत

हैदराबाद के प्रसिद्ध शायर

हैदराबाद के प्रसिद्ध शायर

2.6K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मिरा ज़मीर बहुत है मुझे सज़ा के लिए

तू दोस्त है तो नसीहत कर ख़ुदा के लिए

उन से मिलते थे तो सब कहते थे क्यूँ मिलते हो

अब यही लोग मिलने का सबब पूछते हैं

कभी ज़ियादा कभी कम रहा है आँखों में

लहू का सिलसिला पैहम रहा है आँखों में

ज़िंदगी हम से तिरे नाज़ उठाए गए

साँस लेने की फ़क़त रस्म अदा करते थे

कोई तो के रुला दे कि हँस रहा हूँ मैं

बहुत दिनों से ख़ुशी को तरस रहा हूँ मैं

किताब-ए-हुस्न है तू मिल खुली किताब की तरह

यही किताब तो मर मर के मैं ने अज़बर की

एक रात आप ने उम्मीद पे क्या रक्खा है

आज तक हम ने चराग़ों को जला रक्खा है

शब रोज़ जैसे ठहर गए कोई नाज़ है नियाज़ है

तिरे हिज्र में ये पता चला मिरी उम्र कितनी दराज़ है

उस का होना भी भरी बज़्म में है वज्ह-ए-सुकूँ

कुछ बोले भी तो वो मेरा तरफ़-दार लगे

आगे आगे कोई मिशअल सी लिए चलता था

हाए क्या नाम था उस शख़्स का पूछा भी नहीं

सुख़न राज़-ए-नशात-ओ-ग़म का पर्दा हो ही जाता है

ग़ज़ल कह लें तो जी का बोझ हल्का हो ही जाता है