अर्श मलसियानी की 10 मशहूर नज़्में

मशहूर शायर जोश मलसियानी के पुत्र

264
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मेरे प्यारे वतन

मेरे वतन, प्यारे वतन

अर्श मलसियानी

बेवा की फ़रियाद

किसी की याद दिल में है कि जिस से जी निढाल है

अर्श मलसियानी

हिन्दोस्तान मेरा

देसों में सब से अच्छा हिन्दोस्तान मेरा

अर्श मलसियानी

गुरूनानक

ऐ रहबर-ए-मंज़िल तिरी रफ़्तार के सदक़े

अर्श मलसियानी

मज़दूर

जून की गर्मी कड़कती धूप लू चलती हुई

अर्श मलसियानी

होली

सेहर-ए-मौसीक़ी हुआ फिर गूँज उठे गोकुल के बन

अर्श मलसियानी

मेरा वतन

ऐमन का नूर अगर है तो मेरे वतन में है

अर्श मलसियानी

मैं क्यूँ भूल जाऊँ

तिरी चश्म-ए-मय गूँ का लबरेज़ साग़र

अर्श मलसियानी

पंजाब

ज़िंदा-दिल पंजाब के बेटो तुम्हें मेरा सलाम

अर्श मलसियानी