zindagi aye zindagi

ख़लील-उर-रहमान आज़मी

उर्दू अकादमी, लखनऊ
1983 | अन्य

पुस्तक: परिचय

परिचय

خلیل الرحمن اعظمی کا شمار ترقی پسندی کے برگزیدہ شاعروں میں ہوتا ہے۔زیر مطالعہ "زندگی اے زندگی" آخری شعری مجموعہ ہے۔ جو ان کے انتقال کے بعد شائع ہوا ہے۔ خلیل الرحمن اعظمی ایک جدید غزل گو شاعر ہیں۔جو ترقی پسند تحریک سے تعلق رکھتے تھے لیکن بعد میں جدیدیت سے جڑ گئے۔اس مجموعہ میں ابتدا میں چند نعت پاک ہیں۔اس کے علاوہ چالیس غزلیں، پندر ہ نظمیں، چھ کتبے او رکچھ متفرق اشعار شامل ہیں۔اس مجموعہ میں ان کہی ، نیا آدمی، پچھلے جنم کی کتھائیں،حروف و الفاظ کے ذخیرے ،میں گوتم نہیں ہوں، بھائی ،نیند پیاری نیند ، وغیرہ نظمیں شامل ہیں۔ اس مجموعہ میں اپنی بیٹی ہما کے نام لکھی گئی نظم اور لوری بھی شامل ہے۔

.....और पढ़िए

लेखक: परिचय

ख़लील-उर-रहमान आज़मी

ख़लील-उर-रहमान आज़मी

ख़लीलुर्रहमान आ’ज़मी को उर्दू की नई शाइ’री और आलोचना के शिखर-पुरूषों में शुमार किया जाता है। उनकी नज़्मों और ग़ज़लों ने, अपने समय के सवालों से जूझते हुए आदमी की गहरी वेदना को ज़बान दी, तो आलोचना ने 1960 और 1970 के दशकों में, एक संतुलित और वस्तु-परक दृष्टि देकर नए शाइ’रों का मार्गदर्शन किया। 1927 में आ’ज़मगढ़ में जन्मे आ’ज़मी ने मुस्लिम युनिवर्सिटी अ’लीगढ़ में शिक्षा पाई और वहीं शिक्षण कार्य किया। बी़ ए़ करने के दौरान ही ख़्वाजा हैदर अ’ली ‘आतिश’ पर अपने आलोचनात्मक लेख से मशहूर हो गए। 1947 में, ट्रेन से देहली से अ’लीगढ़ के सफ़र के दौरान दंगाइयों का हमला हुआ और तक़रीबन मुर्दा हालत में अस्पताल लाए गए। ये घटना सारी ज़िन्दगी उनके दिल-ओ-दिमाग़ पर तारी रही। 1955 में पहला कविता-संग्रह ‘काग़ज़ी पैरहन’, 1965 में दूसरा संग्रह ‘नया अह्‌दनामा’ और 1983 में ‘ज़िन्दगी ऐ ज़िन्दगी’ नाम से तीसरी संग्रह उनके देहांत के बा’द छपा। उन्होंने 1978 में कैंसर से हार कर आख़िरी सांस ली।

.....और पढ़िए

लेखक की अन्य पुस्तकें

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

पूरा देखिए

पुस्तकों की तलाश निम्नलिखित के अनुसार

पुस्तकें विषयानुसार

शायरी की पुस्तकें

पत्रिकाएँ

पुस्तक सूची

लेखकों की सूची

विश्वविद्यालय उर्दू पाठ्यक्रम