संपादक : सालिक लखनवी

अंक: Shumara Number-047

प्रकाशक : मग़रिबी बंगाल उर्दू अकेडमी, कोलकाता

मूल : Kolkata (City), Other (District), West Bengal (State), India (Country)

प्रकाशन वर्ष : 1997

भाषा : Urdu

पृष्ठ : 162

सहयोगी : रामपुर रज़ा लाइब्रेरी,रामपुर

महीना : August, July, September

रूह-ए-अदब, कोलकाता

पत्रिका: परिचय

browse here the rooh-e-adab, kolkata urdu magazine issues. you can find all the issues of rooh-e-adab, kolkata on this page. this page features the top rooh-e-adab, kolkata magazine shumaras.

.....और पढ़िए

संपादक: परिचय

सालिक लखनवी वृहद प्रगतिवादी विचारधारा के अनुयायी शायरों में से हैं। इनके नज़दीक प्रगतिवादी चिंतन किसी विशेष समय और किसी विशेष आन्दोलन तक सीमित नहीं बल्कि इन्सानियत का दर्द और एक अच्छे समाज का ख़्वाब रखने वाला हर शख़्स हर ज़माने में प्रगतिवादी रहा है। सालिक ने इसी मूल विचारधारा के अधीन शायरी की, आलेख और कहानियाँ लिखीं और व्यवहारिक रूप से सक्रिय रहे।

सालिक 16 दिसम्बर 1913 को लखनऊ में पैदा हुए। उर्दू, फ़ारसी और अंग्रेज़ी की आरम्भिक शिक्षा अपने पिता से प्राप्त की। उच्च शिक्षा कलत्ता में प्राप्त की। आरम्भ में कांग्रेस पार्टी से सम्बंद्ध रहे लेकिन 1949 में कांग्रेस से इस्तिफ़ा दे कर कम्यूनिस्ट पार्टी ज्वाइन की। सालिक के समस्त संघर्ष का मैदान कलकत्ता रहा। उन्होंने बंगाल के अकाल के दौरान क़ैद व बंद की बहुत सी कठिनाइयाँ भी बर्दाश्त कीं।

सालिक की किताबों के नाम ये हैं—  अज़्रा और दिगर अफ़साने, पस-ए-शेर, बे-सर-ओ-पा, (व्यंग लेखों का संग्रह), बंगाल में उर्दू नस्र की तारीख़, कलाम-ए-सालिक,।

प्रगतिवादी शायर और कहानीकार, आन्दोलन के व्यवहारिक राजनीति में शामिल रहे।

.....और पढ़िए

संपादक की अन्य पुस्तकें

संपादक की अन्य पत्रिकाएं यहाँ पढ़ें।

पूरा देखिए

सबसे लोकप्रिय पत्रिकाएँ

सर्वाधिक लोकप्रिय पत्रिकाओं के इस तैयार-शुदा संग्रह को ब्राउज़ करें और अगली सर्वश्रेष्ठ पठन की खोज करें। आप इस पृष्ठ पर लोकप्रिय पत्रिकाओं को ऑनलाइन ढूंढ सकते हैं, जिन्हें रेख़्ता ने उर्दू पत्रिका के पाठकों के लिए चुना है। इस पृष्ठ में सबसे लोकप्रिय उर्दू पत्रिकाएँ हैं।

पूरा देखिए