ग्वालियर के शायर और अदीब

कुल: 31

उर्दू शायरी के निर्माताओं में से एक, मीर तक़ी मीर के समकालीन।

महत्वपूर्ण प्रगतिशील शायर और फ़िल्म गीतकार। फ़िल्म गीतकार जावेद अख़्तर के पिता

प्रसिद्ध फ़िल्म गीतकार जावेद अख़्तर के दादा

आज़ादी के बाद भारतीय राजनीति का लोकप्रिय व्यक्तित्व, एक उत्कृष्ट समाज की रचना के विचारों वाली शायरी की; ‘जंग न होने देंगे’ उनके काव्य संग्रह का नाम है

मुशायरों में बहुत लोकप्रिय शायरा

बोलिए