अलीगढ़ के शायर और अदीब

कुल: 26

प्रख्यात उत्तर-आधुनिक शायर, साहित्यिक पत्रिका दायरे के संपादक।

आधुनिक उर्दू आलोचना के संस्थापको में अग्रणी।

व्यंग युक्त भावनात्मक तीक्ष्णता के लिए प्रख्यात

अग्रणी उर्दू आलोचकों में से एक।

प्रमुखतम प्रगतिशील शायरों में विख्यात/ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ के समकालीन/अपनी गज़ल ‘मरने की दुआएँ क्यों माँगूँ.......’ के लिए प्रसिद्ध, जिसे कई गायकों ने स्वर दिए हैं

लब्धप्रतिष्ठ विचारक,शोधकर्ता और शिक्षाविद.अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के संस्थापक

बोलिए