रक्षाबंधन शायरी

राखी की डोर से बंधी खूबसूरत शायरी

किसी के ज़ख़्म पर चाहत से पट्टी कौन बाँधेगा

मुनव्वर राना