noImage

आबाद लखनवी

1813 - 1845 | लखनऊ, भारत

शेर 2

फ़क़त उमीद है बख़्शिश की तेरी रहमत से

वगर्ना अफ़्व के क़ाबिल मिरे गुनाह नहीं

  • शेयर कीजिए

उड़ाऊँ क्यूँ गरेबाँ की धज्जियाँ हैहात

वही ये हाथ हैं जिन में किसी का दामन था

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Baharistan-e-Sukhan

 

1918

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी