noImage

अब्बास बेग अब्बास

पीता नहीं शराब कभी बे-वज़ू किए

क़ालिब में मेरे रूह किसी पारसा की है