noImage

आगाह देहलवी

1839 - 1917 | दिल्ली, भारत

आगाह देहलवी के शेर

उस की बेटी ने उठा रक्खी है दुनिया सर पर

ख़ैरियत गुज़री कि अँगूर के बेटा हुआ

मैं ने सवाल-ए-वस्ल जो उन से किया कभी

बोले नसीब में है तो हो जाएगा कभी

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए