Ahsan Marahravi's Photo'

अहसन मारहरवी

1876 - 1940 | अलीगढ़, भारत

प्रमुखतम उत्तर- क्लासिक शायरों में शामिल

प्रमुखतम उत्तर- क्लासिक शायरों में शामिल

1.5K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुझे ख़बर नहीं ग़म क्या है और ख़ुशी क्या है

ये ज़िंदगी की है सूरत तो ज़िंदगी क्या है

किसी माशूक़ का आशिक़ से ख़फ़ा हो जाना

रूह का जिस्म से गोया है जुदा हो जाना

साक़ी वाइज़ में ज़िद है बादा-कश चक्कर में है

तौबा लब पर और लब डूबा हुआ साग़र में है

हमारा इंतिख़ाब अच्छा नहीं दिल तो फिर तू ही

ख़याल-ए-यार से बेहतर कोई मेहमान पैदा कर

रोक ले ज़ब्त जो आँसू कि चश्म-ए-तर में है

कुछ नहीं बिगड़ा अभी तक घर की दौलत घर में है

किसी को भेज के ख़त हाए ये कैसा अज़ाब आया

कि हर इक पूछता है नामा-बर आया जवाब आया

कर के दफ़्न अपने पराए चल दिए

बेकसी का क़ब्र पर मातम रहा

मौत ही आप के बीमार की क़िस्मत में थी

वर्ना कब ज़हर का मुमकिन था दवा हो जाना

एक दिल है एक हसरत एक हम हैं एक तुम

इतने ग़म कम हैं जो कोई और ग़म पैदा करें

जब मुलाक़ात हुई तुम से तो तकरार हुई

ऐसे मिलने से तो बेहतर है जुदा हो जाना

क़ासिद नई अदा से अदा-ए-पयाम हो

मतलब ये है कि बात हो और कलाम हो

ये सदमा जीते जी दिल से हमारे जा नहीं सकता

उन्हें वो भूले बैठे हैं जो उन पर मरने वाले हैं

शेख़ को जन्नत मुबारक हम को दोज़ख़ है क़ुबूल

फ़िक्र-ए-उक़्बा वो करें हम ख़िदमत-ए-दुनिया करें

तंग गया हूँ वुस्अत-ए-मफ़हूम-ए-इश्क़ से

निकला जो हर्फ़ मुँह से वो अफ़्साना हो गया

क्यूँ चुप हैं वो बे-बात समझ में नहीं आता

ये रंग-ए-मुलाक़ात समझ में नहीं आता

तमाम उम्र इसी रंज में तमाम हुई

कभी ये तुम ने पूछा तिरी ख़ुशी क्या है

मुतमइन अपने यक़ीं पर अगर इंसाँ हो जाए

सौ हिजाबों में जो पिन्हाँ है नुमायाँ हो जाए

मेरा हाल-ए-ज़ार तो देखा मगर

ये पूछा क्यूँ ये हालत हो गई

है वो जब दिल में तो कैसी जुस्तुजू

ढूँडने वालों की ग़फ़लत देखना

हम अपनी बे-क़रारी-ए-दिल से हैं बे-क़रार

आमेज़़िश-ए-सुकूँ है इस इज़्तिराब में

हालत दिल-ए-बेताब की देखी नहीं जाती

बेहतर है कि हो जाए ये पैवंद ज़मीं का

इश्क़ रुस्वा-कुन-ए-आलम वो है 'अहसन' जिस से

नेक-नामों की भी बद-नामी रुस्वाई है

राह-ए-उल्फ़त का निशाँ ये है कि वो है बे-निशाँ

जादा कैसा नक़्श-ए-पा तक कोई मंज़िल में नहीं