Ali Jawwad Zaidi's Photo'

अली जव्वाद ज़ैदी

1916 - 2004 | लखनऊ, भारत

प्रसिद्ध शायर और आलोचक, अपनी आलोचना की पुस्तक ‘दो अदबी स्कूल’ के लिए भी जाने जाते हैं

प्रसिद्ध शायर और आलोचक, अपनी आलोचना की पुस्तक ‘दो अदबी स्कूल’ के लिए भी जाने जाते हैं

448
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

ऐश ही ऐश है सब ग़म है

ज़िंदगी इक हसीन संगम है

जिन हौसलों से मेरा जुनूँ मुतमइन था

वो हौसले ज़माने के मेयार हो गए

ये दुश्मनी है साक़ी या दोस्ती है साक़ी

औरों को जाम देना मुझ को दिखा दिखा के

लज़्ज़त-ए-दर्द मिली इशरत-ए-एहसास मिली

कौन कहता है हम उस बज़्म से नाकाम आए

हम अहल-ए-दिल ने मेयार-ए-मोहब्बत भी बदल डाले

जो ग़म हर फ़र्द का ग़म है उसी को ग़म समझते हैं

हिज्र की रात ये हर डूबते तारे ने कहा

हम कहते थे आएँगे वो आए तो नहीं

मिरे हाथ सुलझा ही लेंगे किसी दिन

अभी ज़ुल्फ़-ए-हस्ती में ख़म है तो क्या ग़म

दिल में जो दर्द है वो निगाहों से है अयाँ

ये बात और है कहें कुछ ज़बाँ से हम

गुफ़्तुगू के ख़त्म हो जाने पर आया ये ख़याल

जो ज़बाँ तक नहीं पाया वही तो दिल में था

अब दर्द में वो कैफ़ियत-ए-दर्द नहीं है

आया हूँ जो उस बज़्म-ए-गुल-अफ़्शाँ से गुज़र के

नज़्ज़ारा-ए-जमाल की फ़ुर्सत कहाँ मिली

पहली नज़र नज़र की हदों से गुज़र गई

दिल का लहू निगाह से टपका है बार-हा

हम राह-ए-ग़म में ऐसी भी मंज़िल से आए हैं

एक तुम्हारी याद ने लाख दिए जलाए हैं

आमद-ए-शब के क़ब्ल भी ख़त्म-ए-सहर के बाद भी

मोनिस-ए-शब रफ़ीक़-ए-तन्हाई

दर्द-ए-दिल भी किसी से कम तो नहीं

शौक़-ए-मंज़िल हम-सफ़र है जज़्बा-ए-दिल राहबर

मुझ पे ख़ुद भी खुल नहीं पाता किधर जाता हूँ मैं

जब छेड़ती हैं उन को गुमनाम आरज़ुएँ

वो मुझ को देखते हैं मेरी नज़र बचा के

ग़ज़ब हुआ कि इन आँखों में अश्क भर आए

निगाह-ए-यास से कुछ और काम लेना था

आँखों में लिए जल्वा-ए-नैरंग-ए-तमाशा

आई है ख़िज़ाँ जश्न-ए-बहाराँ से गुज़र के

हैं वजूद-ए-शय में पिन्हाँ अज़ल अबद के रिश्ते

यहाँ कुछ नहीं दो रोज़ा कोई शय नहीं है फ़ानी

जब कभी देखा है 'ज़ैदी' निगाह-ए-ग़ौर से

हर हक़ीक़त में मिले हैं चंद अफ़्साने मुझे

दयार-ए-सज्दा में तक़लीद का रिवाज भी है

जहाँ झुकी है जबीं उन का नक़्श-ए-पा तो नहीं

मुद्दतों से ख़लिश जो थी जैसे वो कम सी हो चली

आज मिरे सवाल का मिल ही गया जवाब क्या

दिखा दी मैं ने वो मंज़िल जो इन दोनों के आगे है

परेशाँ हैं कि आख़िर अब कहें क्या कुफ़्र दीं मुझ से

अब वो शोरिश-ए-रफ़्तार वो जोश-ए-जुनूँ

हम कहाँ फँस गए यारान-ए-सुबुक-गाम के साथ

हार के भी नहीं मिटी दिल से ख़लिश हयात की

कितने निज़ाम मिट गए जश्न-ए-ज़फ़र के बाद भी

पी तो लूँ आँखों में उमडे हुए आँसू लेकिन

दिल पे क़ाबू भी तो हो ज़ब्त का यारा भी तो हो