Ali Zaheer Rizvi Lakhnavi's Photo'

अली ज़हीर रिज़वी लखनवी

1931 - 1982 | लखनऊ, भारत

अली ज़हीर रिज़वी लखनवी

ग़ज़ल 5

 

शेर 7

हमारी ज़िंदगी क्या है मोहब्बत ही मोहब्बत है

तुम्हारा भी यही दस्तूर बन जाए तो अच्छा हो

  • शेयर कीजिए

नफ़रत से मोहब्बत को सहारे भी मिले हैं

तूफ़ान के दामन में किनारे भी मिले हैं

  • शेयर कीजिए

ज़रा पर्दा हटा दो सामने से बिजलियाँ चमकें

मिरा दिल जल्वा-गाह-ए-तूर बन जाए तो अच्छा हो

  • शेयर कीजिए

राज़-ए-ग़म-ए-उल्फ़त को ये दुनिया समझ ले

आँसू मिरे दामन में तुम्हारे भी मिले हैं

  • शेयर कीजिए

मिरा ख़ून-ए-जिगर पुर-नूर बन जाए तो अच्छा हो

तुम्हारी माँग का सिन्दूर बन जाने तो अच्छा हो

  • शेयर कीजिए

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी