Allama Iqbal's Photo'

अल्लामा इक़बाल

1877 - 1938 | लाहौर, पाकिस्तान

महान उर्दू शायर एवं पाकिस्तान के राष्ट्र-क़वि जिन्होंने 'सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा ' के अतिरिक्त 'लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी' जैसे गीत की रचना की

महान उर्दू शायर एवं पाकिस्तान के राष्ट्र-क़वि जिन्होंने 'सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा ' के अतिरिक्त 'लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी' जैसे गीत की रचना की

नहीं तेरा नशेमन क़स्र-ए-सुल्तानी के गुम्बद पर

वजूद-ए-ज़न से है तस्वीर-ए-काएनात में रंग

नानक

एक आरज़ू

मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना

तुझे याद क्या नहीं है मिरे दिल का वो ज़माना

न तू ज़मीं के लिए है न आसमाँ के लिए

ज़लाम-ए-बहर में खो कर सँभल जा

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है

हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है

हुए मदफ़ून-ए-दरिया ज़ेर-ए-दरिया तैरने वाले

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है