Ambareen Haseeb ambar's Photo'

अंबरीन हसीब अंबर

1981 | कराची, पाकिस्तान

मुशायरों की लोकप्रिय पाकिस्तानी शायरा

मुशायरों की लोकप्रिय पाकिस्तानी शायरा

480
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

मुझ में अब मैं नहीं रही बाक़ी

मैं ने चाहा है इस क़दर तुम को

तअ'ल्लुक़ जो भी रक्खो सोच लेना

कि हम रिश्ता निभाना जानते हैं

फ़ैसला बिछड़ने का कर लिया है जब तुम ने

फिर मिरी तमन्ना क्या फिर मिरी इजाज़त क्यूँ

अब के हम ने भी दिया तर्क-ए-तअ'ल्लुक़ का जवाब

होंट ख़ामोश रहे आँख ने बारिश नहीं की

हम तो सुनते थे कि मिल जाते हैं बिछड़े हुए लोग

तू जो बिछड़ा है तो क्या वक़्त ने गर्दिश नहीं की

दुनिया तो हम से हाथ मिलाने को आई थी

हम ने ही ए'तिबार दोबारा नहीं किया

उड़ गए सारे परिंदे मौसमों की चाह में

इंतिज़ार उन का मगर बूढे शजर करते रहे

इस आरज़ी दुनिया में हर बात अधूरी है

हर जीत है ला-हासिल हर मात अधूरी है

बन के हँसी होंटों पर भी रहते हो

अश्कों में भी तुम बहते हो तुम भी नाँ

उम्र-भर के सज्दों से मिल नहीं सकी जन्नत

ख़ुल्द से निकलने को इक गुनाह काफ़ी है

ध्यान में कर बैठ गए हो तुम भी नाँ

मुझे मुसलसल देख रहे हो तुम भी नाँ

दिल जिन को ढूँढता है न-जाने कहाँ गए

ख़्वाब-ओ-ख़याल से वो ज़माने कहाँ गए

मोहब्बत और क़ुर्बानी में ही ता'मीर मुज़्मर है

दर-ओ-दीवार से बन जाए घर ऐसा नहीं होता

जो तुम हो तो ये कैसे मान लूँ मैं

कि जो कुछ है यहाँ बस इक गुमाँ है

ज़िंदगी में कभी किसी को भी

मैं ने चाहा नहीं मगर तुम को

अयाँ दोनों से तक्मील-ए-जहाँ है

ज़मीं गुम हो तो फिर क्या आसमाँ है

भूल जोते हैं मुसाफ़िर रस्ता

लोग कहते हैं कहानी फिर भी

क्या जानिए क्या सोच के अफ़्सुर्दा हुआ दिल

मैं ने तो कोई बात पुरानी नहीं लिक्खी

तुम ने किस कैफ़ियत में मुख़ातब किया

कैफ़ देता रहा लफ़्ज़-ए-'तू' देर तक

क्या ख़ूब तमाशा है ये कार-गह-ए-हस्ती

हर जिस्म सलामत है हर ज़ात अधूरी है

वो जंग जिस में मुक़ाबिल रहे ज़मीर मिरा

मुझे वो जीत भी 'अम्बर' होगी हार से कम

इक हसीं ख़्वाब कि आँखों से निकलता ही नहीं

एक वहशत है कि ता'बीर हुई जाती है

तश्हीर तो मक़्सूद नहीं क़िस्सा-ए-दिल की

सो तुझ को लिखा तेरी निशानी नहीं लिक्खी

आसमाँ किस लिए इस दर्जा बरहमी

हम ने तो तिरी सम्त इशारा नहीं किया

तिरे फ़िराक़ में दिल का अजीब आलम है

कुछ ख़ुमार से बढ़ कर कुछ ख़ुमार से कम

पैरवी से मुमकिन है कब रसाई मंज़िल तक

नक़्श-ए-पा मिटाने को गर्द-ए-राह काफ़ी है

लफ़्ज़ की हुरमत मुक़द्दम है दिल-ओ-जाँ से मुझे

सच तआ'रुफ़ है मिरे हर शे'र हर तहरीर का

मानूस बाम-ओ-दर से नज़र पूछती रही

उन में बसे वो लोग पुराने कहाँ गए