Ameer Minai's Photo'

अमीर मीनाई

1829 - 1900 | हैदराबाद, भारत

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

अमीर मीनाई की पुस्तकें

34

Shumara Number-003

1926

Ameer-ul-Lughat

Part-001

1891

Deewan-e-Ameer

1893

Khayaban-e-Aafrinish

Makateeb-e-Ameer Minai

1924

Masnavi Abr-e-Karam

Meena-e-Sukhan

1921

Meyar-e-Urdu

1994

Taj-e-Sukhan

1931

Taj-e-Sukhan

Volume-001

अमीर मीनाई पर पुस्तकें

15

Ameer-o-Dagh Ki Nazuk Khayaliyan

Dabistan-e-Ameer Minai

1985

Faryad-e-Aashiq

Makateeb-e-Ameer Meenai

1964

Nawa-e-Adab,Mumbai

Shumara Number-001,002

2013

Sahbaye Meenai

Sawaneh Ameer Meenai

1929

Urdu,Karachi

Ameer Minai Ki Ek Ghair Matbua Asihqana Masnavi : July-October : Shumara Number-003,004

1960

अमीर मीनाई

1941

इंतिख़ाब-ए-सुख़न

खण्ड-008

1929

अमीर मीनाई द्वारा संकलित पुस्तकें

2

Deewan-e-Mushafi

1990

Deewan-e-Mushafi Ka Taqabuli Mutala

1996