Anjum Saleemi's Photo'

महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायर, अपने संजीदा लहजे के लिए विख्यात।

महत्वपूर्ण पाकिस्तानी शायर, अपने संजीदा लहजे के लिए विख्यात।

ग़ज़ल

अच्छे मौसम में तग-ओ-ताज़ भी कर लेता हूँ

नोमान शौक़

आईना साफ़ था धुँदला हुआ रहता था मैं

नोमान शौक़

इन दिनों ख़ुद से फ़राग़त ही फ़राग़त है मुझे

नोमान शौक़

इस से आगे तो बस ला-मकाँ रह गया

नोमान शौक़

कल तो तिरे ख़्वाबों ने मुझ पर यूँ अर्ज़ानी की

नोमान शौक़

काग़ज़ था मैं दिए पे मुझे रख दिया गया

नोमान शौक़

ख़ाक छानी न किसी दश्त में वहशत की है

नोमान शौक़

चला हवस के जहानों की सैर करता हुआ

नोमान शौक़

जस्त भरता हुआ फ़र्दा के दहाने की तरफ़

नोमान शौक़

ज़ुहूर-ए-कश्फ़-ओ-करामात में पड़ा हुआ हूँ

नोमान शौक़

दर्द-ए-विरासत पा लेने से नाम नहीं चल सकता

नोमान शौक़

दीवार पे रक्खा तो सितारे से उठाया

नोमान शौक़

बुझने दे सब दिए मुझे तन्हाई चाहिए

नोमान शौक़

मुझे भी सहनी पड़ेगी मुख़ालिफ़त अपनी

नोमान शौक़

नज़्म

इंहिराफ़

नोमान शौक़

एक महबूस नज़्म

नोमान शौक़

बे-मसरफ़ रिश्तों की फ़राग़त

नोमान शौक़

मैं तुम्हारे लिए ले के आया हूँ

नोमान शौक़

मुहाजिर परिंदों का स्वागत

नोमान शौक़

सरगोशी

नोमान शौक़

हम बे-वतन ख़्वाबों के जोलाहे हैं

नोमान शौक़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI