ग़ज़ल 6

शेर 7

तिरा ग़ुरूर झुक के जब मिला मिरे वजूद से

जाने मेरी कमतरी का चेहरा क्यूँ उतर गया

  • शेयर कीजिए

मेरी दुनिया में समुंदर का कहीं नाम नहीं

फिर घटा फेंकती है मुझ पे ये पत्थर कैसे

  • शेयर कीजिए

वहीं के पत्थरों से पूछ मेरा हाल-ए-ज़िंदगी

मैं रेज़ा रेज़ा हो के जिस दयार में बिखर गया

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

Badalte Mausam Ki Aahat

 

1988

Ziyankadey Mein Dopher

 

2005

 

"दिल्ली" के और शायर

  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई
  • मोमिन ख़ाँ मोमिन मोमिन ख़ाँ मोमिन