Dilawar Ali Aazar's Photo'

नौजवान पाकिस्तानी शायरों में अहम

नौजवान पाकिस्तानी शायरों में अहम

दिलावर अली आज़र के शेर

2.2K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

उस से मिलना तो उसे ईद-मुबारक कहना

ये भी कहना कि मिरी ईद मुबारक कर दे

उस से कुछ ख़ास तअल्लुक़ भी नहीं है अपना

मैं परेशान हुआ जिस की परेशानी पर

मैं जब मैदान ख़ाली कर के आया

मिरा दुश्मन अकेला रह गया था

अब मुझ को एहतिमाम से कीजे सुपुर्द-ए-ख़ाक

उक्ता चुका हूँ जिस्म का मलबा उठा के मैं

चाँद तारे तो मिरे बस में नहीं हैं 'आज़र'

फूल लाया हूँ मिरा हाथ कहाँ तक जाता

सभी के हाथ में पत्थर थे 'आज़र'

हमारे हाथ में इक आईना था

बदन को छोड़ ही जाना है रूह ने 'आज़र'

हर इक चराग़ से आख़िर धुआँ निकलता है

तुम ख़ुद ही दास्तान बदलते हो दफ़अतन

हम वर्ना देखते नहीं किरदार से परे

एक लम्हे के लिए तन्हा नहीं होने दिया

ख़ुद को अपने साथ रक्खा जिस जहाँ की सैर की

सुख़न-सराई कोई सहल काम थोड़ी है

ये लोग किस लिए जंजाल में पड़े हुए हैं

इक दिन जो यूँही पर्दा-ए-अफ़्लाक उठाया

बरपा था तमाशा कोई तन्हाई से आगे

वही सितारा-नुमा इक चराग़ है 'आज़र'

मिरा ख़याल था निकलेगा ताक़ से कुछ और

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए