Dushyant Kumar's Photo'

दुष्यंत कुमार

1933 - 1975

ग़ज़ल 10

हिंदी ग़ज़ल 14

शेर 19

एक क़ब्रिस्तान में घर मिल रहा है

जिस में तह-ख़ानों से तह-ख़ाने लगे हैं

  • शेयर कीजिए

तिरा निज़ाम है सिल दे ज़बान-ए-शायर को

ये एहतियात ज़रूरी है इस बहर के लिए

  • शेयर कीजिए

ये लोग होमो-हवन में यक़ीन रखते हैं

चलो यहाँ से चलें हाथ जल जाए कहीं

  • शेयर कीजिए

वीडियो 10

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो
Ashkon ka jab mausam aya

कुसुम शर्मा

Main jise odta bichchaata hoon

भारती विश्वनाथन

Tumhare Paanv Ke Neeche Koi Zameen Nahi

भारती विश्वनाथन

ye sara jism jhuk kar bojh se

कुसुम शर्मा

Ye zubaan humse si nahi jaati

भारती विश्वनाथन

Film Masaan

चाँदनी छत पे चल रही होगी

अज्ञात

मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ

चंदन दास

मैं जिसे ओढ़ता बिछाता हूँ

मीनू पुरषोत्तम

हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए

Manoj Bajpayee

Added to your favorites

Removed from your favorites