Faheem Shanas Kazmi's Photo'

फ़हीम शनास काज़मी

1965 | कराची, पाकिस्तान

237
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

तुम्हारी याद निकलती नहीं मिरे दिल से

नशा छलकता नहीं है शराब से बाहर

बदलते वक़्त ने बदले मिज़ाज भी कैसे

तिरी अदा भी गई मेरा बाँकपन भी गया

उसी ने चाँद के पहलू में इक चराग़ रखा

उसी ने दश्त के ज़र्रों को आफ़्ताब किया

जिन को छू कर कितने 'ज़ैदी' अपनी जान गँवा बैठे

मेरे अहद की शहनाज़ों के जिस्म बड़े ज़हरीले थे

गुज़रा मिरे क़रीब से वो इस अदा के साथ

रस्ते को छू के जिस तरह रस्ता गुज़र गया

ज़िंदगी अब तू मुझे और खिलौने ला दे

ऐसे ख़्वाबों से तो मैं दिल नहीं बहला सकता

तेरी गली के मोड़ पे पहुँचे थे जल्द हम

पर तेरे घर को आते हुए देर हो गई

किन दरीचों के चराग़ों से हमें निस्बत थी

कि अभी जल नहीं पाए कि बुझाए गए हम

फिर वही शाम वही दर्द वही अपना जुनूँ

जाने क्या याद थी वो जिस को भुलाए गए हम

तमाम उम्र हवा की तरह गुज़ारी है

अगर हुए भी कहीं तो कभू कभू हुए हम

बिछड़ के तुझ से तिरी याद भी नहीं आई

मकाँ की सम्त पलट कर मकीं नहीं आया

कोई भी रस्ता किसी सम्त को नहीं जाता

कोई सफ़र मिरी तकमील करने वाला नहीं

ज़मीन पर रहे आसमाँ को छोड़ दिया

तुम्हारे ब'अद ज़मान मकाँ को छोड़ दिया

बस एक बार वो आया था सैर करने को

फिर उस के साथ ही ख़ुश्बू गई चमन भी गया

यूँ जगमगा उठा है तिरी याद से वजूद

जैसे लहू से कोई सितारा गुज़र गया

उस के लबों की गुफ़्तुगू करते रहे सुबू सुबू

यानी सुख़न हुए तमाम यानी कलाम हो चुका

वो जिस के हाथ से तक़रीब-ए-दिल-नुमाई थी

अभी वो लम्हा-ए-मौजूद में नहीं आया

ख़ुद अपने होने का हर इक निशाँ मिटा डाला

'शनास' फिर कहीं मौज़ू-ए-गुफ़्तुगू हुए हम

किसी के दिल में उतरना है कार-ए-ला-हासिल

कि सारी धूप तो है आफ़्ताब से बाहर