noImage

फ़ना बुलंदशहरी

फ़ना बुलंदशहरी के शेर

इस जहाँ में नहीं कोई अहल-ए-वफ़ा

'फ़ना' इस जहाँ से किनारा करो

आग़ाज़ तो अच्छा था 'फ़ना' दिन भी भले थे

फिर रास मुझे इश्क़ का अंजाम आया

क्या भूल गए हैं वो मुझे पूछना क़ासिद

नामा कोई मुद्दत से मिरे काम आया

उठा पर्दा तो महशर भी उठेगा दीदा-ए-दिल में

क़यामत छुप के बैठी है नक़ाब-ए-रू-ए-क़ातिल में

'फ़ना' मेरी मय्यत पे कहते हैं वो

आप ने अपना वा'दा वफ़ा कर दिया