Fikr Tunsvi's Photo'

Fikr Tunsvi

1918 - 1987 | Delhi, India

Tanz-o-Mazah 4

 

Quote 42

कभी-कभी कोई इंतिहाई घटिया आदमी आपको इंतिहाई बढ़िया मश्वरा दे जाता है। मगर आह! कि आप मश्वरे की तरफ़ कम देखते हैं, घटिया आदमी की तरफ़ ज़्यादा।

  • Share this

हम वादा करते हैं, तो किसी उम्मीद पर। लेकिन जब वादा पूरा करने लगते हैं, तो किसी डर के मारे।

  • Share this

ख़ुदा ने गुनाह को पहले पैदा नहीं किया। इंसान को पहले पैदा कर दिया। यह सोच कर कि अब ये ख़ुद-ब-ख़ुद गुनाह पैदा करेगा।

  • Share this

औरत का हुस्न सिर्फ उस वक़्त तक बर-क़रार रहता है, जब तक उसके सना-ख़्वाँ मौजूद हो।

  • Share this

हमें दुश्मन से झगड़ने के बाद ही वो गाली याद आती है, जो दुश्मन की गाली से ज़्यादा करारी और तीखी थी।

  • Share this

BOOKS 36

Aadha Aadmi

 

1980

Akhri Kitab

 

1980

Baat Me Ghaat

 

1983

Badnam Kitab

 

1957

Badnam Kitab

 

1975

Chaupat Raja

 

1973

Chhata Darya

Ek Diary

1948

Chhilke Hi Chhilke

 

1984

Fikr Bani

 

1995

Fikr Nama

Tanziya Tahreeron Ka Intikhab

1977

RELATED Blog

 

More Poets From "Delhi"

  • Shaikh Zahuruddin Hatim Shaikh Zahuruddin Hatim
  • Farhat Ehsas Farhat Ehsas
  • Dagh Dehlvi Dagh Dehlvi
  • Bekhud Dehlvi Bekhud Dehlvi
  • Abroo Shah Mubarak Abroo Shah Mubarak
  • Sheikh Ibrahim Zauq Sheikh Ibrahim Zauq
  • Shah Naseer Shah Naseer
  • Hasrat Mohani Hasrat Mohani
  • Taban Abdul Hai Taban Abdul Hai
  • Mazhar Imam Mazhar Imam