Hatim Ali Mehr's Photo'

हातिम अली मेहर

1815 - 1879

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन और मित्र हाई कोर्ट के वकील एवं माननीय मजिस्ट्रेट

मिर्ज़ा ग़ालिब के समकालीन और मित्र हाई कोर्ट के वकील एवं माननीय मजिस्ट्रेट

हातिम अली मेहर के शेर

923
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

अपना बातिन ख़ूब है ज़ाहिर से भी जान-ए-जाँ

आँख के लड़ने से पहले जी लड़ा बैठे हैं हम

हम भी बातें बनाया करते हैं

शेर कहना मगर नहीं आता

दाग़ों की बस दिखा दी दिवाली में रौशनी

हम सा होगा कोई जहाँ में दिवालिया

दोनों रुख़्सार इनायत करें इक इक बोसा

आशिक़ों के लिए सरकार से चंदा हो जाए

अबरू का इशारा किया तुम ने तो हुई ईद

जान यही है मह-ए-शव्वाल हमारा

मैं जीता हूँ देखे से सूरत तुम्हारी

मुझे है निहायत ज़रूरत तुम्हारी

किसी का रुख़ हमें क़ुरआन का जवाब मिला

ख़ुदा का शुक्र है बुत साहिब-ए-किताब मिला

अब्र आए तो शराब पिएँ बादा-ख़्वार हैं

उम्मीद-वार-ए-रहमत-ए-परवरदिगार हैं

पाँव पूजूँ मैं अपने हाथों के

उन की अंगिया के बंद खोले हैं

कोई होगा ख़रीदार हमारे दिल का

तुम तो बाज़ार में हड़ताल किए जाते हो

मैं ने माना आप ने बोसे दिए मैं ने लिए

वो कहाँ निकली जो है मेरी तमन्ना एक और

मार डाला तिरी आँखों ने हमें

शेर का काम हिरन करते हैं

ज़ाहिद हरम में बैठ के ख़ाली मैं क्या करूँ

कोसों यहाँ शराब कहीं बूँद-भर नहीं

छू जाए जो बंदे के सिवा जिस्म से तेरे

अल्लाह करे हाथ वो गल जाए तो अच्छा

मय-कदा छोड़ के क्यूँ दैर-ओ-हरम में जाएँ

इस में हिन्दू रहें उस में हों मुसलमाँ आबाद

नमाज़-ए-सुब्ह वो ही पढ़ रहे थे का'बे में

जनाब-ए-'मेहर' जो मंदिर में थे पुजारी रात

याद रखने की ये बातें हैं बजा है सच है

आप भूले हमें आप को हम भूल गए

रातों को बुत बग़ल में हैं क़ुरआँ तमाम दिन

हिन्दू तमाम शब हूँ मुसलमाँ तमाम दिन

का'बे में हम को दैर का हर दम ख़याल था

अल्लाह जानता है बुतों का रहा लिहाज़

मिरी तो ख़ाक भी तेरे क़दम छोड़ेगी

ज़रा तू आने तो दे अपने पाएमाल का वक़्त

यूँ अगर झगड़ा मोहब्बत का चुके तो ख़ूब है

हम ज़ियादा चाहें वो 'मेहर' कम चाहा करें

है ये पूरब की ज़बान-दानी 'मेहर'

कहते हैं बात को हम सुनता हूँ

सारी इज़्ज़त नौकरी से इस ज़माने में है 'मेहर'

जब हुए बे-कार बस तौक़ीर आधी रह गई

बंध गई बाग़ में तेरी तो हवा बाद-ए-सबा

उन के कूचे में मिरी आह की बंध जाए हवा

शैख़ का'बे में ये दुआ माँगो

'मेहर' हो बुत-कदा हो दुनिया हो

तिरी तलाश से बाक़ी कोई मकाँ रहा

हरम में दैर में बंदा कहाँ कहाँ रहा

किस पर नहीं रही है इनायत हुज़ूर की

साहब नहीं मुझी पे तुम्हारा करम फ़क़त

दीवाना हूँ पर काम में होशियार हूँ अपने

यूसुफ़ का ख़याल आया जो ज़िंदाँ नज़र आया

आप ही पर नहीं दीवाना-पन अपना मौक़ूफ़

और भी चंद परी-ज़ाद हैं अच्छे अच्छे

पिस्ताँ हैं हबाब और शिकम बहर-ए-लताफ़त

मौजें हैं बटें पेट की दरिया का भँवर नाफ़

रात दिन सज्दे किया करता है हूरों के लिए

कोई ज़ाहिद की नमाज़ों में तो निय्यत देखता

आगरा छूट गया 'मेहर' तो चुन्नार में भी

ढूँढा करती हैं वही कूचा-ओ-बाज़ार आँखें

मजमा' में रक़ीबों के खुला था तिरा जूड़ा

कल रात अजब ख़्वाब-ए-परेशाँ नज़र आया

दर-ब-दर मारा-फिरा मैं जुस्तुजू-ए-यार में

ज़ाहिद-ए-काबा हुआ रहबान-ए-बुत-ख़ाना हुआ

गुल बाँग थी गुलों की हमारा तराना था

अपना भी इस चमन में कभी आशियाना था

याद में इक शोख़ पंजाबी के रोते हैं जो हम

आज-कल पंजाब में बहता है दरिया एक और

ज़क़न है वो लब हैं वो पिस्ताँ वो क़द

सेब उन्नाब अनार एक शजर से निकले

जन्नत की ने'मतों का मज़ा वाइ'ज़ों को हो

हम तो हैं महव लज़्ज़त-ए-बोस-ओ-कनार में

बोसे लेते हैं चश्म-ए-जानाँ के

हम हिरन का शिकार करते हैं

तू ने वहदत को कर दिया कसरत

कभी तन्हा नज़र नहीं आता

बे-क़रारी रोज़-ओ-शब करने लगा

'मेहर' अब तो दिल ग़ज़ब करने लगा

बुतों अल्लाह से ली है इजाज़त वस्ल की

कल हज़ारों देख डाले इस्तिख़ारे रात को

क्या बुतों में है ख़ुदा जाने ब-क़ौल-ए-उस्ताद

कमर रखते हैं काफ़िर दहन रखते हैं

पास-ए-आदाब-ए-हुस्न-ए-यार रहा

इश्क़ मेरे लिए अदीब हुआ

क्या तफ़रक़े हुआ जो हुए यार से अलग

दिल हम से और हम हैं दिल-ए-ज़ार से अलग

आते हैं वो कहीं से तो 'मेहर' क़र्ज़ दाम

चिकनी डली इलाइची मँगा पान छालीया

मेरे कनार से किनारा करे कभी

उस बहर-ए-हुस्न को यही साहिल पसंद हो

करते हैं शौक़-ए-दीद में बातें हवा से हम

जाते हैं कू-ए-यार में पहले सबा से हम

ले जा दैर से का'बा हमें ज़ाहिद कि हम वाँ भी

ख़ुदा को भूल जाते हैं बुतों को याद करते हैं

सबा जो बड़ी बाग़ वाली हुई है

तुम्हारी गली की निकाली हुई है