Hosh Jaunpuri's Photo'

होश जौनपुरी

1940 - 2003 | जौनपुर, भारत

ना’त, मन्क़बत, सलाम, मर्सिये और क़सीदे जैसी विधाओं में शायरी की

ना’त, मन्क़बत, सलाम, मर्सिये और क़सीदे जैसी विधाओं में शायरी की

होश जौनपुरी

ग़ज़ल 18

नज़्म 7

अशआर 18

ख़ुदा बदल सका आदमी को आज भी 'होश'

और अब तक आदमी ने सैकड़ों ख़ुदा बदले

  • शेयर कीजिए

दीवार उन के घर की मिरी धूप ले गई

ये बात भूलने में ज़माना लगा मुझे

  • शेयर कीजिए

टूट कर रूह में शीशों की तरह चुभते हैं

फिर भी हर आदमी ख़्वाबों का तमन्नाई है

  • शेयर कीजिए

ज़िक्र-ए-अस्लाफ़ से बेहतर है कि ख़ामोश रहें

कल नई नस्ल में हम लोग भी बूढ़े होंगे

  • शेयर कीजिए

हम भी करते रहें तक़ाज़ा रोज़

तुम भी कहते रहो कि आज नहीं

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

"जौनपुर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए