noImage

जलाल मानकपुरी

शेर 3

आज तक दिल की आरज़ू है वही

फूल मुरझा गया है बू है वही

एक मुद्दत से क़ासिद है ख़त है पयाम

अपने वा'दे को तो कर याद मुझे याद कर

  • शेयर कीजिए

कह दें तुम से कौन हैं क्या हैं कहाँ रहते हैं हम

बे-ख़ुदों को अपने जब तुम होश में आने तो दो

we will tell you who and what we are and where we stay

let your besotten lovers regain consciousness today

  • शेयर कीजिए