noImage

जलाल मानकपुरी

आज तक दिल की आरज़ू है वही

फूल मुरझा गया है बू है वही

एक मुद्दत से क़ासिद है ख़त है पयाम

अपने वा'दे को तो कर याद मुझे याद कर

कह दें तुम से कौन हैं क्या हैं कहाँ रहते हैं हम

बे-ख़ुदों को अपने जब तुम होश में आने तो दो

we will tell you who and what we are and where we stay

let your besotten lovers regain consciousness today