Jameel Mazhari's Photo'

जमील मज़हरी

1904 - 1979 | कोलकाता, भारत

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर, अपने अपारम्परिक विचारों के लिए विख्यात

प्रमुख पूर्वाधुनिक शायर, अपने अपारम्परिक विचारों के लिए विख्यात

जमील मज़हरी के शेर

2.3K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

जलाने वाले जलाते ही हैं चराग़ आख़िर

ये क्या कहा कि हवा तेज़ है ज़माने की

हम मोहब्बत का सबक़ भूल गए

तेरी आँखों ने पढ़ाया क्या है

होने दो चराग़ाँ महलों में क्या हम को अगर दीवाली है

मज़दूर हैं हम मज़दूर हैं हम मज़दूर की दुनिया काली है

ब-क़द्र-ए-पैमाना-ए-तख़य्युल सुरूर हर दिल में है ख़ुदी का

अगर हो ये फ़रेब-ए-पैहम तो दम निकल जाए आदमी का

इन्ही हैरत-ज़दा आँखों से देखे हैं वो आँसू भी

जो अक्सर धूप में मेहनत की पेशानी से ढलते हैं

किसे ख़बर थी कि ले कर चिराग़-मुस्तफ़वी

जहाँ में आग लगाती फिरेगी बू-लहबी

बुतों को तोड़ के ऐसा ख़ुदा बनाना क्या

बुतों की तरह जो हम-शक्ल आदमी का हो

आया ये कौन साया-ए-ज़ुल्फ़-ए-दराज़ में

पेशानी-ए-सहर का उजाला लिए हुए

सज्दा-फ़रोश-ए-कू-ए-बुताँ हर सर के लिए इक चौखट है

ये भी कोई शान-ए-इश्क़ हुई जिस दर पे गए सर फोड़ लिया

नहीं अफ़्सूँ ही को अफ़्साने की मंज़िल मालूम

ग़लत आग़ाज़ का होता ही है अंजाम ग़लत

हस्ती है जुदाई से उस की जब वस्ल हुआ तो कुछ भी नहीं

दरिया में था तो क़तरा था दरिया में मिला तो कुछ भी नहीं

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए