noImage

जौहर ज़ाहिरी

1924 | लंदन, यूनाइटेड किंगडम

ग़ज़ल 16

शेर 2

हम रहे हैं मंज़िलों ही मंज़िलों में उम्र भर

जैसे क़िस्मत में किसी पहलू शकेबाई थी

वो लोग जो कि मआल-ए-चमन से वाक़िफ़ हैं

ख़िज़ाँ-नसीब गुलों की बहार क्या देखें

 

ई-पुस्तक 1

वादी-ए-ख़याल

 

1957

 

"लंदन" के और शायर

  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़
  • एस ए मेहदी एस ए मेहदी
  • यावर अब्बास यावर अब्बास
  • परवीन मिर्ज़ा परवीन मिर्ज़ा
  • सय्यद जमील मदनी सय्यद जमील मदनी
  • शाहीन सिद्दीक़ी शाहीन सिद्दीक़ी
  • हबीब हैदराबादी हबीब हैदराबादी
  • अज़हर लखनवी अज़हर लखनवी
  • सय्यद अहसन जावेद सय्यद अहसन जावेद
  • आबिद नामी आबिद नामी