ग़ज़ल 16

शेर 2

हम रहे हैं मंज़िलों ही मंज़िलों में उम्र भर

जैसे क़िस्मत में किसी पहलू शकेबाई थी

वो लोग जो कि मआल-ए-चमन से वाक़िफ़ हैं

ख़िज़ाँ-नसीब गुलों की बहार क्या देखें

 

पुस्तकें 1

वादी-ए-ख़याल

 

1957

 

"लंदन" के और शायर

  • साक़ी फ़ारुक़ी साक़ी फ़ारुक़ी
  • शोहरत बुख़ारी शोहरत बुख़ारी
  • अकबर हैदराबादी अकबर हैदराबादी
  • अख़्तर ज़ियाई अख़्तर ज़ियाई
  • बख़्श लाइलपूरी बख़्श लाइलपूरी
  • हिलाल फ़रीद हिलाल फ़रीद
  • ख़ालिद यूसुफ़ ख़ालिद यूसुफ़
  • फ़र्ख़न्दा रिज़वी फ़र्ख़न्दा रिज़वी
  • अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी अब्दुल हफ़ीज़ साहिल क़ादरी
  • आमिर मौसवी आमिर मौसवी