Kunwar Mahendra Singh Bedi Sahar's Photo'

कँवर महेंद्र सिंह बेदी सहर

1909 - 1992 | दिल्ली, भारत

ग़ज़ल

इन शोख़ हसीनों की निराली है अदा भी

नोमान शौक़

ख़िज़ाँ में भी बहार-ए-जावेदाँ मालूम होती है

नोमान शौक़

तक़दीर के लिखे से सिवा बन गए हैं हम

नोमान शौक़

नित नित का ये आना जाना मेरे बस की बात नहीं

नोमान शौक़

शोख़ी शबाब हुस्न तबस्सुम हया के साथ

नोमान शौक़

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI