Mohammad Alvi's Photo'

मोहम्मद अल्वी

1927 - 2018 | अहमदाबाद, भारत

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित

प्रमुखतम आधुनिक शायरों में विख्यात/साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित

15.8K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

धूप ने गुज़ारिश की

एक बूँद बारिश की

रोज़ अच्छे नहीं लगते आँसू

ख़ास मौक़ों पे मज़ा देते हैं

अंधेरा है कैसे तिरा ख़त पढ़ूँ

लिफ़ाफ़े में कुछ रौशनी भेज दे

आज फिर मुझ से कहा दरिया ने

क्या इरादा है बहा ले जाऊँ

अपना घर आने से पहले

इतनी गलियाँ क्यूँ आती हैं

कुछ तो इस दिल को सज़ा दी जाए

उस की तस्वीर हटा दी जाए

अच्छे दिन कब आएँगे

क्या यूँ ही मर जाएँगे

सर्दी में दिन सर्द मिला

हर मौसम बेदर्द मिला

अब तो चुप-चाप शाम आती है

पहले चिड़ियों के शोर होते थे

आग अपने ही लगा सकते हैं

ग़ैर तो सिर्फ़ हवा देते हैं

कभी आँखें किताब में गुम हैं

कभी गुम हैं किताब आँखों में

उस से मिले ज़माना हुआ लेकिन आज भी

दिल से दुआ निकलती है ख़ुश हो जहाँ भी हो

हाए वो लोग जो देखे भी नहीं

याद आएँ तो रुला देते हैं

अब 'ग़ालिब' से शिकायत है शिकवा 'मीर' का

बन गया मैं भी निशाना रेख़्ता के तीर का

छोड़ गया मुझ को 'अल्वी'

शायद वो जल्दी में था

देखा तो सब के सर पे गुनाहों का बोझ था

ख़ुश थे तमाम नेकियाँ दरिया में डाल कर

मैं उस के बदन की मुक़द्दस किताब

निहायत अक़ीदत से पढ़ता रहा

नज़रों से नापता है समुंदर की वुसअतें

साहिल पे इक शख़्स अकेला खड़ा हुआ

अभी दो चार ही बूँदें गिरीं हैं

मगर मौसम नशीला हो गया है

वो जंगलों में दरख़्तों पे कूदते फिरना

बुरा बहुत था मगर आज से तो बेहतर था

कमरे में मज़े की रौशनी हो

अच्छी सी कोई किताब देखूँ

घर में क्या आया कि मुझ को

दीवारों ने घेर लिया है

उन दिनों घर से अजब रिश्ता था

सारे दरवाज़े गले लगते थे

अरे ये दिल और इतना ख़ाली

कोई मुसीबत ही पाल रखिए

और बाज़ार से क्या ले जाऊँ

पहली बारिश का मज़ा ले जाऊँ

परिंदे दूर फ़ज़ाओं में खो गए 'अल्वी'

उजाड़ उजाड़ दरख़्तों पे आशियाने थे

देखा होगा तू ने मगर इंतिज़ार में

चलते हुए समय को ठहरते हुए भी देख

थोड़ी सर्दी ज़रा सा नज़ला है

शायरी का मिज़ाज पतला है

इक लड़का था इक लड़की थी

आगे अल्लाह की मर्ज़ी थी

खिड़कियों से झाँकती है रौशनी

बत्तियाँ जलती हैं घर घर रात में

उस से बिछड़ते वक़्त मैं रोया था ख़ूब-सा

ये बात याद आई तो पहरों हँसा किया

रात पड़े घर जाना है

सुब्ह तलक मर जाना है

गुल-दान में गुलाब की कलियाँ महक उठीं

कुर्सी ने उस को देख के आग़ोश वा किया

आँखें खोलो ख़्वाब समेटो जागो भी

'अल्वी' प्यारे देखो साला दिन निकला

रात मिली तन्हाई मिली और जाम मिला

घर से निकले तो क्या क्या आराम मिला

ऐसा हंगामा था जंगल में

शहर में आए तो डर लगता था

हर वक़्त खिलते फूल की जानिब तका कर

मुरझा के पत्तियों को बिखरते हुए भी देख

बुला रहा था कोई चीख़ चीख़ कर मुझ को

कुएँ में झाँक के देखा तो मैं ही अंदर था

मैं ख़ुद को मरते हुए देख कर बहुत ख़ुश हूँ

ये डर भी है कि मिरी आँख खुल जाए कहीं

आसमान पर जा पहुँचूँ

अल्लाह तेरा नाम लिखूँ

सामने दीवार पर कुछ दाग़ थे

ग़ौर से देखा तो चेहरे हो गए

चला जाऊँगा जैसे ख़ुद को तन्हा छोड़ कर 'अल्वी'

मैं अपने आप को रातों में उठ कर देख लेता हूँ

रखते हो अगर आँख तो बाहर से देखो

देखो मुझे अंदर से बहुत टूट चुका हूँ

मौत आई तो 'अल्वी'

छुट्टी में घर जाएँगे

ढूँडता हूँ मैं ज़मीं अच्छी सी

ये बदन जिस में उतारा जाए

ऑफ़िस में भी घर को खुला पाता हूँ मैं

टेबल पर सर रख कर सो जाता हूँ मैं

बिछड़ते वक़्त ऐसा भी हुआ है

किसी की सिसकियाँ अच्छी लगी हैं

दरवाज़े पर पहरा देने

तन्हाई का भूत खड़ा है

ढूँडने में भी मज़ा आता है

कोई शय रख के भुला दी जाए

'अल्वी' ये मो'जिज़ा है दिसम्बर की धूप का

सारे मकान शहर के धोए हुए से हैं