noImage

मोहम्मद यूसुफ़ अली ख़ाँ नाज़िम रामपुरी

रामपुर, भारत

मोहम्मद यूसुफ़ अली ख़ाँ नाज़िम रामपुरी के शेर

बोस-ओ-कनार के लिए ये सब फ़रेब हैं

इज़हार-ए-पाक-बाज़ी ज़ौक़-ए-नज़र ग़लत

मुट्ठी में क्या धरी थी कि चुपके से सौंप दी

जान-ए-अज़ीज़ पेशकश-ए-नामा-बर ग़लत