noImage

मुजाहिद फ़राज़

1962 | मुरादाबाद, भारत

अभी दिखाओ तस्वीर-ए-ज़िंदगी इस को

ये बचपना है अभी मुस्कुराना चाहता है

फ़साद, क़त्ल, तअस्सुब, फ़रेब, मक्कारी

सफ़ेद-पोशों की बातें हैं क्या बताऊँ मैं