noImage

मुमताज़ गुर्मानी

पाकिस्तान

मेले में गर नज़र आता रूप किसी मतवाली का

फीका फीका रह जाता त्यौहार भी इस दीवाली का