Naqsh Layalpuri's Photo'

नक़्श लायलपुरी

1928 - 2017 | मुंबई, भारत

नाम होंटों पे तिरा आए तो राहत सी मिले

तू तसल्ली है दिलासा है दुआ है क्या है

हम ने क्या पा लिया हिन्दू या मुसलमाँ हो कर

क्यूँ इंसाँ से मोहब्बत करें इंसाँ हो कर

ये अंजुमन ये क़हक़हे ये महवशों की भीड़

फिर भी उदास फिर भी अकेली है ज़िंदगी