408
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

बरस रही थी बारिश बाहर

और वो भीग रहा था मुझ में

यूँ तुझे देख के चौंक उठती हैं सोई यादें

जैसे सन्नाटे में आवाज़ लगा दे कोई

बस हम दोनों ज़िंदा हैं

बाक़ी दुनिया फ़ानी है

नया लिबास पहन कर भी

दुनिया वही पुरानी है

ख़्वाब क्या था जो मिरे सर में रहा

रात भर इक शोर सा घर में रहा

पत्थर होता जाता हूँ

हँसने दो या रोने दो

बच्चे ने तितली पकड़ कर छोड़ दी

आज मुझ को भी ख़ुदा अच्छा लगा

चलते चलते मैं उस को घर ले आया

वो भी अपना हाथ छुड़ाना भूल गया

उस ने ख़त में भेजे हैं

भीगी रात और भीगा दिन

कोई मुझ को ढूँढने वाला

भूल गया है रस्ता मुझ में

अब के बार मैं तुझ से मिलने नहीं आया

तुझ को अपने साथ ले जाने आया हूँ

जब वो साथ होता है

हम अकेले होते हैं

मैं उसे कैसे जीत सकता हूँ

वो मुझे अपना जिस्म हारती है

कभी करना हो अंदाज़ा जब अपने दर्द का मुझ को

मैं उस बेदर्द के दिल को दुखा कर देखा लेता हूँ

बिखर के जाता कहाँ तक कि मैं तो ख़ुशबू था

हवा चली थी मुझे अपने हम-रिकाब लिए

उभर रहे हैं कई हाथ शब के पर्दे से

कोई सितारा लिए कोई माहताब लिए

रंग लाई है हसरत-ए-तामीर

गिर रही हैं इमारतें क्या क्या