ग़ज़ल 2

 

शेर 3

गर्दिश-ए-माह-ओ-साल से आगे निकल गया हूँ मैं

जैसे बदल गए हो तुम जैसे बदल गया हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

दिन तो ख़ैर गुज़र जाता है

रातें पागल कर देती हैं

ये भी तो जब्र-ए-वक़्त है तू मुझे याद भी नहीं

जैसे सँभल गए हो तुम वैसे सँभल गया हूँ मैं

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 1

Bache, Titli, Phool

 

1997

 

वीडियो 4

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो
दिल मिरे सहरा-नवर्द-ए-पीर दिल

नग़्मा-दर-जाँ रक़्स बरपा ख़ंदा-बर-लब नून मीम दनिश

हसन कूज़ा-गर (1)

जहाँ-ज़ाद नीचे गली में तिरे दर के आगे नून मीम दनिश

हसन कूज़ा-गर (3)

जहाँ-ज़ाद नून मीम दनिश

"न्यूयॉर्क" के और शायर

  • फ़रहत ज़ाहिद फ़रहत ज़ाहिद
  • अहमद इरफ़ान अहमद इरफ़ान
  • खालिद इरफ़ान खालिद इरफ़ान
  • फ़रहत नदीम हुमायूँ फ़रहत नदीम हुमायूँ
  • रईस वारसी रईस वारसी
  • सबीहा सबा सबीहा सबा
  • ज़फर ज़ैदी ज़फर ज़ैदी